Close

    रूपरेखा

    मध्य प्रदेश, मध्य भारत का एक बड़ा राज्य, जिसे प्यार से “भारत का ह्रदय” कहा जाता है, ने पूरे भारत के इतिहास में युगों से अपनी ऐतिहासिकता को बरकरार रखा है। राज्य उन पर्यटकों के लिए सबसे पसंदीदा गंतव्यों में से एक है जो अपनी समृद्ध कला , संस्कृति, ऐतिहासिक स्थल, राष्ट्रीय उद्यान और प्राकृतिक सौन्दर्य को देखने में रुचि रखते हों| राज्य का मध्य में स्थित होना , इसको अनेक लॉजिस्टिक लाभों के साथ एक रणनीतिक केंद्र बनाता है।

    एनआईसी, मध्य प्रदेश “टाइगर स्टेट का साइबर गेटवे” भोपाल में वर्ष 1988 में सूचना विज्ञान संस्कृति को बढ़ावा देने में उत्प्रेरक भूमिका निभाने , सरकारी विभागों और संगठनों को आईसीटी सेवाएं, सर्वोत्तम संभव प्रौद्योगिकी सहायता के साथ विभिन्न ई-गवर्नेंस पहलों को तैयार करने और कार्यान्वित करने के साथ ही राज्य में आम जनता को कुशल नागरिक सेवाएं प्रदान करने के लक्षित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्थापित किया गया था|


    बड़ा राज्य होने के नाते, नीति निर्माण और कार्यान्वयन, विभिन्न विकास योजनाओं और कार्यक्रमों की शुरूआत और कार्यान्वयन, प्रशासन के न्यूनतम स्तर और आम जनता के लिए सेवाओं के वितरण में समन्वय और निगरानी चुनौतीपूर्ण है|

    इस प्रयास में सफल होने के लिए, एनआईसी ने जिला केंद्रों और उप-केंद्रों के राज्य-व्यापी नेटवर्क को लागू किया। वर्तमान में, एनआईसी जिला केंद्र 51 जिलों में कार्यरत हैं (कुल 52 जिलों में से)। एनआईसी ने विभिन्न महत्वपूर्ण स्थानों, जैसे कि राजभवन, राज्य सचिवालय (मंत्रालय), राज्य विधान सभा (विधानसभा) , आयुक्त भूमि अभिलेख, परिवहन आयुक्त और केंद्रीय उत्पाद शुल्क पर विशेष केंद्र भी बनाए हैं।

    एनआईसी मध्य प्रदेश , प्रौद्योगिकी में नवाचार के साथ नवीनतम अत्याधुनिक आईसीटी समाधानों की मदद से और नागरिकों के अनुकूल, पारदर्शी, कुशल और विश्वसनीय आईसीटी-सेवाओं का विस्तार करके उपयोगकर्ता संतुष्टि के लिए बहुआयामी तरीकों से प्रतिबद्धताओं को पूरा कर रहा है। . पिछले वर्षों में राज्य सरकार के साथ-साथ एनआईसी के ई-गवर्नेंस प्रयासों को अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

    एनआईसी मध्य प्रदेश ने नॉलेज सोसायटी बनाकर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है – जिसमे डिजिटल इंडिया कार्यक्रम द्वारा प्रदान किए गए अवसरों का उपयोग करके प्रतिस्पर्धात्मक लाभ प्राप्त करने के लिए ज्ञान का उपयोग किया गया|